लू और भीषण गर्मी के बाद अब डरा रहा आंधी-तूफान, यूपी में 15 तो बिहार में 11 की ली जान

0
2046

नई दिल्ली (जेएनएन)। चिलचिलाती गर्मी और जला देने वाली लू के बाद अब भयंकर आंधी-तूफान लोगों को डरा रहा है। शुक्रवार को आए आंधी और तूफान ने न सिर्फ भयंकर तबाही मचाई बल्कि कइयों की जिंदगी भी छीन ली। आंधी-तूफान की चपेट में आकर उत्तर प्रदेश में 15, तो बिहार में 11 लोगों की मौत हो गई। उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद, मुजफ्फरनगर, मेरठ, अमरोहा और संभल जिलों में तो आंधी-तूफान ने सबसे ज्यादा तांडव मचाया। आंधी और तूफान की तीव्रता का अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि जगह-जगह पेड़ जड़ सहित उखड़ गए, बिजली के खंभे गिर गए, गाड़ियां क्षतिग्रस्त हो गईं। आंधी के कारण सड़क यातायात काफी प्रभावित रहा तो वहीं बिजली के खंभे गिरने से बिजली आपूर्ति पर भी असर पड़ा।

यूपी में आंधी-तूफान ने ली 15 की जान

यूपी के अलग-अलग जिलों में आंधी-तूफान की चपेट में आकर 15 लोगों की जान चली गई, जबकि 9 घायल हो गए। सबसे ज्यादा तबाही मुरादाबाद, मुजफ्फरनगर, मेरठ, अमरोहा और संभल जिले में देखने को मिली। इससे पहले भी 28 मई को आंधी-तूफान ने यूपी में काफी तबाही मचाई थी। गौरतलब है कि मई की शुरुआत से अबतक उत्तर भारत के विभिन्न राज्यों में तूफान ने काफी तबाही मचाई है। तूफान की चपेट में आने से अबतक 150 से ज्यादा जानें जा चुकी हैं। वही बड़े पैमाने पर संपत्ति को भी नुकसान पहुंचा है। खासकर उत्तर प्रदेश में आंधी-तूफान की वजह से सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा है।

बिहार में 11 की मौत

उधर, बिहार में भयंकर आंधी-तूफान ने 11 लोगों की जान ले ली, जबकि 7 घायल हो गए। बताया जा रहा है कि इनमें से पांच लोगों की मौत बिजली गिरने से और 6 लोगों की मौत तूफान के कारण हुई। पटना, पश्चिम चंपारण, दरभंगा, नालंदा, शिवहर, कटिहार और समस्तीपुर में तूफान का सबसे ज्यादा असर देखने को मिला।

दिल्ली में धूलभरी आंधी की आशंका

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आज (शनिवार) सुबह मौसम साफ रहा, लेकिन मौसम विभाग ने धूलभरी आंधी चलने की आशंका जताई है। यहां का न्यूनतम तापमान 26.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दिल्ली, नोएडा और गाजियाबाद में शुक्रवार को अचानक धूलभरी आंधी चलने के बाद यहां का न्यूनतम तापमान सामान्य से एक डिग्री कम हो गया।

उत्तराखंड में बरसे ओले, फटा बादल

मौसम के बदले मिसाज से सबसे ज्यादा प्रभावित उत्तराखंड के लोग हैं। यहां ओले बरसने के कारण लोगों को काफी समस्या का सामना करना पड़ा है। राज्य के अलग-अलग हिस्सों में ओलों के साथ बारिश ने पहाड़ों की मिट्टी को दरका दिया है। इस दौरान सड़क यातायात बाधित होने से बदरीनाथ धाम की यात्रा की रफ्तार भी धीमी पड़ गई। अब मौसम खुलने के बाद ही यात्रियों को रवाना किया जा सकेगा। बता दें कि उत्तराखंड में मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे के लिए अलर्ट जारी कर दिया है. मौसम विभाग के मुताबिक, मौसम एक बार फिर करबट ले सकता है। तेज आंधी और तूफान के साथ तेज बारिश की संभावना है। बता दें कि शुक्रवार को पौढ़ी में बदल फटने के बाद उत्तराखंड के कई हिस्सों में तेज बारिश हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here